सोमवार, 5 जुलाई 2010

भारत बंद : नुकसान जनता का नफा नेताओं का

पूरे दिन सभी न्यूज चैनल अपनी अपनी तरह से भारत बंद की व्याख्याएं करते रहे. विपक्ष ने इसे शाम को सफल और ऐतिहासिक बताया वहीँ सत्ता पक्ष ने इसे असफल बताया. विपक्ष के नेताओं ने इसे अंतिम हथियार बताया. उन्होंने कहा कि  जनता को जो असुविधा हुई उसके लिए उन्हें अफसोस है. सत्ता पक्ष ने महंगाई को अपनी तरह से परिभाषित करते हुए अपना पल्ला  झाड़ने की कोशिश की. अभी सभी न्यूज चैनलों पर तमाम नेतागण जोर शोर से चिल्ला चिल्ला कर अपनी बातें कहने में लगे हुए हैं. जो बात सबसे ज्यादा ध्यान देने लायक रही वो यह कि प्रदर्शन कर रहे नेता और कार्यकर्ता टी वी कैमरों के आते ही जोर जोर से चिल्लाने लग जाते और अपने मुंह पर एक विजयी मुस्कान ले आते. ऐसा लग रहा था जैसे वो ये सब टी वी पर आने के लिए कर रहे हैं. उनके चेहरों पर  वास्तविक चिंता कतई नहीं नजर आई. कुल मिलकर आज की नौटंकी काफी मसालेदार रही.

मैं इन सभी नेताओं से चंद सवाल पूछ रहा हूँ. मैं यह जानता हूँ कि कोई भी नेता इन सवालों के जवाब कभी नहीं देगा लेकिन मेरा यह प्रयास तमाम जनता के लिए है  जो इन नेताओं की बातों में आकर अपना कीमती समय बरबाद कर रही है. तमाम दलों के कार्यकर्ता भी इन सवालों को दिल की गहराइयों से पढ़ें ; समझे ; विशलेषण  करें और फिर कोई भी फैसला करें.

१. एक नेता जब किसी दौरे  पर निकालता है तो वो अपने  साथ दसियों गाडीयों का कारवां लेकर निकलता है. पानी की तरह पेट्रोल फूंका जाता है. इसका पैसा कौन देता है? ये हम जनता से ही वसूला जाता है. क्या वो इन यात्राओं पर खर्च होने वाला व्यय खुद वहन करने को तैयार  है?

२. पेट्रोल का दाम ५३/- रुपये प्रति लीटर है. इसमें केन्द्रीय कर ११.८० रुपये है. उत्पाद कर ९.७५ रुपये हैं. राज्य बिक्री कर ८.०० रूपए है और सेस कर ४.०० रुपये है. इसका मतलब यह हुआ कि पेट्रोल की वास्तविक कीमत १६.५० के के आस-पास हुई. आज जो दल विपक्ष में है वो कभी ना कभी सता में रहे हैं. उन्होंने  इस भारी-भरकम करों की राशी को कभी कम करने की कोशिश की. साफ़ है कोई भी दल सता में आए खुद के सांसदों ; मंत्रियों के ऐशो-आराम के लिए इन करों को कम नहीं करना चाहता. क्या आज कोई राजनितिक दल हम सब को ये भरोसा दिला सकता है कि सता में आने पर वो इन टैक्स को कम करेंगे?

३. आज भी इस देश में करोड़ों लोग रोज मजदूरी करते हैं और रोज कमाते हैं . इसी हर दिन की कमाई से उनका चुल्हा जलता है. आज ना जाने कितने लोग भूखे सोयेंगे. कितने बच्चे भूखे पेट बिलख बिलख कर अपने माता-पिता से पूछेंगे  कि आज हम भूखे क्यों सो रहे हैं? क्या आज कोई नेता इस सवाल का जवाब दे सकता है कि इन बच्चों का कुसूर क्या है?

४. कभी भी कोई बंद होता है तो देश की संपत्ति का जमकर नुकसान किया जाता है. बसों को तोडा जाता है; जलाया जाता है. गरीबों  की दुकानों को लूट लिया जाता है. रेलगाड़ियों को रोक लिया जाता है. सड़कों पर अवरोध लगा दिए जाते हैं. कितने ही बीमार व्यक्ति अस्पताल समय पर नहीं पहुँच जाने पर दम तोड़ देते हैं. साक्षात्कार समय पर नहीं पहुँच सकने के कारण कितनों को नौकरी नहीं मिल पाती. कितनी ही शादीयाँ रद्द कर देनी पड़ जाती है. अगर कोई जरुरी काम से कहीं जाना चाहता  है  तो उसके वाहनों को तोड़ दिया जाता है. इन तमाम घटनाओं के टी वी पर आने के बाद सभी दलों के नेता यह कहकर कि ये उनके दल के कार्यकर्ता नहीं बल्कि असामाजिक तत्व थे. कितनी हैरत की बात है कि हम लोग हमारे देश की संपत्ति को नुकसान पहुंचाकर अपनी पीठ थपथपा लेते हैं. अपने ही देश के लोगों को तकलीफ पहुंचा कर खुश हो जाते हैं. क्या कोई नेता ये बताने की कोशिश करेगा कि ऐसा कर के उन्हें क्या हासिल होता है?

५. बंद कर रहे दलों के छुटभय्ये नेता इन प्रदर्शनों को अपनी क्षमता दिखाने का अवसर मानते हैं और जोर शोर से लोगों को तकलीफ पहुंचाकर ; तोड़ फोड़ कर ; पुलिस से हाथापाई  कर और अपनी गिरफ्तारी देकर अपने अपने आलाकमानों से इसके  बदले में आने वाले विभिन्न स्तर के चुनावों के लिए टिकट प्राप्त कर लेते हैं. इसमें असली विरोध कहाँ हुआ. ये तो अपनी अपनी स्वार्थपूर्ति हुई. क्या कोई दल अपने छुटभय्ये नेताओं और कार्यकर्ताओं पर लगाम कसने की गारंटी जनता को दे सकता है?

६. हर बंद के बाद बंद करने वाले दलों के नेता इसे जनता का स्वस्फूर्त समर्थन बता कर जनता के अपने साथ होने की बात करते हैं. हर कोई जानता है कि किस तरह से इन दलों के नेता और कार्यकर्ता जोर-जबरदस्ती से दुकानों और संस्थानों को बंद करवाते हैं. किस तरह से लोगों को पीटा जाता है. धमकीयां दी जाती है. हमला किया जाता है. क्या इन नेताओं की नजर में स्वस्फूर्त समर्थन है? क्या यही जनता का उनको समर्थन है? क्या कोई नेता यह बताएगा कि आगे से ऐसा कभी नहीं होगा?

७. ये नेता उस समय कहाँ चले जाते हैं जब भ्रष्ट सरकारी कर्मचारी असहाय जनता से जबरन पैसा वसूलते हैं? क्या आज तक किसी भी राजनीतिक दल ने बढ़ते भ्रस्टाचार  के खिलाफ भारत बंद किया है या करेंगे? 

८. ये नेता उन जमाखोरों को कभी अपना निशाना क्यूँ नहीं बनाते जो महंगाई बढाने का सबसे बड़ा कारण है? कारण साफ़ है इन्ही जमाखोरों से उनके दलों को बेहिसाब चन्दा मिलता है. क्या कोई नेता आज यह वादा करने को तैयार है कि वो इन जमाखोरों को बेनकाब करके ही छोड़ेगा ? 

और भी कितने ही सवाल है. मैं आप सब से भी यही प्रार्थना करना चाहता हूँ कि आप भी अपने मन में उठ रहे ऐसे तमाम सवाल पूछिए मेरे ब्लॉग के माध्यम से. अपने ब्लॉग के माध्यम से. अब जनता को मुखर होकर इन सब का विरोध करना होगा वरना बहुत देर हो जायेगी. नेताओं की झूठी बातों में आकर हम आपस में बंटे नहीं बल्कि एक होकर उन्हें सुधारें और सुधरने को मजबूर करें.
मैं इस नए ब्लॉग के माध्यम से हर कडवे सच को आप तक पहुंचाने का प्रयत्न करूंगा. ये ब्लॉग आप सब के लिए खुला है. आप भी इसे अपना मंच समझिये और अपने लेख मेरे ब्लॉग  पर प्रकाशित कीजिये. मैं सहर्ष आपके हर लेख को प्रकाशित करूंगा. ये आपका अपना ब्लॉग है. आइये इन नेताओं से भारत को बचाइये.

4 टिप्‍पणियां:

  1. यही तो त्रासदी है हमारे देश की.

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर अभिव्यक्ति. आपके ब्लाग पर आकर अच्छा लगा.. चिट्ठाजगत में आपका स्वागत है... हिंदी ब्लागिंग को आप नई ऊंचाई तक पहुंचाएं, यही कामना है....
    इंटरनेट के जरिए अतिरिक्त आमदनी के इच्छुक साथी कृपया यहां पधारें - http://gharkibaaten.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. " बाज़ार के बिस्तर पर स्खलित ज्ञान कभी क्रांति का जनक नहीं हो सकता "

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति.कॉम "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . अपने राजनैतिक , सामाजिक , आर्थिक , सांस्कृतिक और मीडिया से जुडे आलेख , कविता , कहानियां , व्यंग आदि जनोक्ति पर पोस्ट करने के लिए नीचे दिए गये लिंक पर जाकर रजिस्टर करें . http://www.janokti.com/wp-login.php?action=register,
    जनोक्ति.कॉम www.janokti.com एक ऐसा हिंदी वेब पोर्टल है जो राज और समाज से जुडे विषयों पर जनपक्ष को पाठकों के सामने लाता है . हमारा प्रयास रोजाना 400 नये लोगों तक पहुँच रहा है . रोजाना नये-पुराने पाठकों की संख्या डेढ़ से दो हजार के बीच रहती है . 10 हजार के आस-पास पन्ने पढ़े जाते हैं . आप भी अपने कलम को अपना हथियार बनाइए और शामिल हो जाइए जनोक्ति परिवार में !
    एसएम्एस देखकर पैसा कमा सकते हैं http://mGinger.com/index.jsp?inviteId=janokti

    उत्तर देंहटाएं